Thursday , 4 March 2021

तम्बाकू निषेद दिवस

संस्था रमाशिव बहुउद्देशीय विकास समिति द्वारा तम्बाकू निषेद दिवस 05 मई को मनाया जाता है जिसमे लोगो को तम्बाकू वा नशा से होने वाले दुश्परिणाम को बताया जाता है तथा उनको नशा ना करने की सलाह दी है तथा जिन व्यक्ति द्वारा नशा छोडने का संकल्प लेते है उनकी नशा को दूर करने मे संस्था मदद करती है।

जिन घरों में धूम्रपान आम होता हैउन घरों के बच्चे न चाहते हुए भी जन्म से ही धूम्रपान‘ की ज्यादतियों के शिकार हो जाते हैं। पेसिव स्मोकिंग या सेकंड हैंड स्मोकिंग भी उतनी ही समस्याएँ पैदा करती हैं जितनी किसी धूम्रपान करने वाले को हो सकती है। बच्चों में यह समस्या और गंभीर इसलिए हो जाती हैक्योंकि उनका विकास हो रहा होता है। साथ ही उनकी साँस लेने की गति भी वयस्कों से अधिक होती है। वयस्कों से अधिक तेज गति से साँस लेते हैं इसलिए उनके फेफड़ों में भी वयस्कों के मुकाबले अधिक धुआँ जाता है। धुएँ के साथ जहरीले पदार्थ भी उसी मात्रा में दाखिल होते हैं। 


देश के ग्रामीण इलाकों में महिलाओं में बीड़ी पीना बहुत सामान्य है। इसी तरह शहरी भद्र समाज की आधुनिक महिलाओं में यहाँ तक कि लड़कियों में सिगरेट पीना फैशन बनता जा रहा है।
 इसे एक रिवाज के एक भाग के रूप मेंसमाधि में जाने के लिए प्रेरित करने और आध्यात्मिक ज्ञान को उत्पन्न करने में भी किया जा सकता है। वर्तमान में धूम्रपान की सबसे प्रचलित विधि सिगरेट हैजो मुख्य रूप से उद्योगों द्वारा निर्मित होती है किन्तु खुले तम्बाकू तथा कागज़ को हाथ से गोल करके भी बनाई जाती है। धूम्रपान के अन्य साधनों में पाइपसिगारहुक्का एवं बॉन्ग शामिल हैं। ऐसा बताया जाता है कि धूम्रपान से संबंधित बीमारियां सभी दीर्घकालिक धूम्रपान करने वालों में से आधों की जान ले लेती हैं किन्तु ये बीमारियां धूम्रपान न करने वालों को भी लग सकती हैं। 2007 की एक रिपोर्ट के अनुसार प्रत्येक वर्ष दुनिया भर में 4.9 मिलियन लोग धूम्रपान की वजह से मरते हैं।

आज चिकित्सा अध्ययनों ने यह प्रमाणित कर दिया है है कि तम्बाकू धूम्रपान कई रोगों जैसे फेफड़े का कैंसरदिल का दौरानपुंसकता और जन्मजात विकारों को बढ़ावा देने वाले प्रमुख कारणों में से एक है। धूम्रपान के स्वास्थ्य निहित खतरों के कारणकई देशों ने तम्बाकू पदार्थों पर उच्च कर लगा दिए हैं और तम्बाकू धूम्रपान को रोकने के प्रयासों के रूप में धूम्रपान विरोधी अभियान प्रत्येक वर्ष शुरू किए जाते हैं।

हम सभी को एक जुट होकर इस मुहीम में शामिल होना चाहिए और भारत देश को तम्बाकू निषेध देश बनाना पड़ेगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)